Aapnu Gujarat
તાજા સમાચાર રાષ્ટ્રીય

भारतीय सेना को मिली हॉवित्जर तोपें, चीन सीमा पर होगी तैनाती

आखिरकार लंबे इंतजार के बाद एम-७७७ हॉवित्जर तोपें भारतीय सेना को मिल चुकी हैं और उनका परीक्षण पोखरण रेंज में होगा । इस तरह साल १९८६ में बोफोर्स तोप के बाद अब सेना को एक कारगर तोप मिलने का रास्ता साफ हो गया हैं । इनकी चीन सीमा पर तैनाती होगी । सेना का तीस साल पुराना इंतजार जल्द ही खत्म होने जा रहा हैं । अमेरिका से १४५ एम-७७७ हॉवित्जर तोप खरीदने के सौदे के तहत परीक्षण के तहत पहली दो तोपें भारत पहुंच कुही हैं । १९८६ में बोफोर्स के बाद पहली बार सेना के लिए बढिया तोप खरीदने का रास्ता साफ हो गया हैं । २९०० करोड़ की इस डील के तहत अमेरिका भारत को १४५ नई तोपें देगा । ओप्टिकल फायर कंट्रोल वाली हॉवित्जर से तकरीबन ४० किलोमीटर दूर स्थित टारगेट पर सटीक निशाना साधा जा सकता हैं । डिजिटल फायर कंट्रोल वाली यह तोप एक मिनट में ५ राउंड फायर करती हैं । एम ७७७ हॉवित्जर तोप भी खूब चर्चा में हैं इस तोप का इस्तेमाल अमेरिका अफगानिस्तान में कर रहा हैं । अमेरिका भारत को १४५ अल्ट्रा लाइट हॉवित्जर तोपें बेचने के लिए तैयार हो गया हैं । यह डील ७०० मिलियन डॉलर से ज्यादा की होगी और ज्यादातर तोपें भारत में तैयार होगी । दूसरी तरफ भारत-५२ तोप के ओपरेशनल पैरामीटर की बात की जाए तो यह खुद से २५ किलोमीटर प्रति घंटा मूव कर सकती हैं । यह ५२ कैलिबर राउंड्‌स लेगी, जबकि बोफोर्स की क्षमता ३९ कैलिबर की हैं । भारतीय सेना सितम्बर के अंत या अक्टूबर की शुरुआत तक भारत फोर्ज के आर्टिलरी उपकरणों का परीक्षण शुरु कर देगी ।

Related posts

મોદી સરકારના પાંચ વર્ષના કામકાજની રાષ્ટ્રપતિ રામનાથ કોવિંદે વાત કરી

aapnugujarat

સોનિયા ગાંધીએ પણ સંસદમાં કાળી પટ્ટી બાંધી વિરોધ નોંધાવ્યો

aapnugujarat

કેજરીવાલે જાહેર કરી નવી ગાઇડ લાઇન, દિલ્હીમાં હવે ક્વોરેન્ટાઈન પણ થવું પડશે

editor

Leave a Comment

URL