Aapnu Gujarat
તાજા સમાચાર રાષ્ટ્રીય

डर्टी वोर से निपटने के लिए नये तरीके खोजने की जरुरत : बिपिन रावत

घाटी में पत्थरबाजों से निपटने के लिए आर्मी जीप पर कश्मीरी शख्सको बांधे जाने की घटना को लेकर सेना प्रमुख बिपिन रावत ने बचाव किया है । उन्होंने कहा कि सैनिकों को कश्मीर के डर्टी वॉर से निपटने के लिए नए-नए तरीके खोजने की जरूरत है । उन्होंने कहा, जब लोग हमपर पत्थर और पेट्रोल बम फैक रहे हों तो मैं अपने लोगों से देखते रहने और मरने के लिए नहीं कह सकता । सेना प्रमुख ने यह भी कहा कि मैं खुश होता अगर प्रदर्शनकारी पत्थर फेंकने के बजाए हथियारों से फायर कर रहे होते । रावत के मुताबिक, कश्मीर मुद्दे के ठोस हल की जरूरत है और हर किसी को इसमें शामिल होना होगा । बता दें कि जीप पर स्थानीय शख्सो को बांदने वाले मेजर लीतुल गोगोई को सम्मानित किए जाने पर अलगाववादी नेताओं और कुछ राजनीतिक दलों ने तीखी प्रतिक्रिया दी थी । वहीं, केंद्र सरकार इस मुद्दे पर सेना के साथ है । गोगोई ने भी मीडिया के सामने आकर पूरी घटना की जानकारी दी थी । साथ ही कहा था कि उनका यह कदम स्थानीय लोगों की जान बचाने के लिए उठाया गया था । अगर बेहद हिंसक हो चुकी भीड़ पर वे फायरिंग करवाते तो कम से कम १२ लोगों की जान चली जाती । सेना ने साफ किया है कि गोगोई के इस सम्मान से जीप वाली घटना का कोई संबंध नहीं है, लेकिन इस मामले पर राजनीति शुरू हो गई थी । पिछले महीने सोशल मीडिया पर स्थानीय कश्मीरियों द्वारा चुनावी ड्यूटी में लगे सीआरपीएफ के जवानों की पिटाई के विडियो के तुरंत बाद एक और विडियो वायरल हुआ था, जिसमें सेना एक कश्मीरी को जीप से बांधकर जीप ले जाती हुई दिख रही थी । कश्मीरी के सीने पर चिपके काजग पर लिखा था – मैं पत्थरबाज हूं । साथ ही सेना लाउडस्पीकर में यह चेतावनी दे रही थी कि पत्थरबाजों का यही अंजाम होगा । यह विडियो श्रीनगर लोकसभा सीट पर उपचुनाव के दौरान ९ अप्रैल को शूट किया गया था । उमर अब्दुल्ला ने भी यह विडियो ट्‌वीट करते हुए इस मामले में ऐक्शन लेने की मांग की थी ।

Related posts

જમ્મુ કાશ્મીર : બે વર્ષમાં ૩૬૦ આતંકવાદીઓ ઠાર

aapnugujarat

बडगाम में 2 आतंकी ढेर

editor

હાફીઝ સામે કાર્યવાહી કરવા ભારતની પાસે ક્ષમતા નથી

aapnugujarat

Leave a Comment

URL