Aapnu Gujarat
રાષ્ટ્રીય

सरकार ६७ हजार बाबूओं के रिकॉर्ड कर रही रिव्यू

सरकार ६७ हजार से ज्यादा केंद्रीय कर्मचारियों के सर्विस रिकॉर्ड्‌स रिव्यू करने वाली है । इस लिस्ट में आईएएस आईपीएस अफसर भी शामिल होंगे । सर्विस रिकॉर्ड्‌स को रिव्यू कर सरकार नॉन-परफॉर्म्स का पता लगाएगी । इसके पीछे सरकार का उद्देश्य सरकारी सेवाओं की डिलिवरी को बेहतर बनाना और प्रशासनिक स्तर सुधारना है ।  कार्मिक एवं प्रशिक्षण मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि इस रिव्यू के तहत कोड ऑफ कंडक्ट का पालन न करने वालों को दंड भी दिया जाएगा । उन्होंने कहा, सरकार ६७ हजार केंद्रीय कर्मचारियों के सर्विस रिकॉर्ड्‌स को रिव्यू कर रही है ताकि नॉन-परफॉमेंस का पता लगाया जा सके । अधिकारी ने बताया कि कुल ६७  हजार केंद्रीय कर्मचारियों में २५ हजार ग्रुप ए सर्विसेज के आईएएस, आईपीएम और आईआरएस अधिकारी है । जितेन्द्र सिंह ने बताया, एक तरफ सरकार की प्राथमिकता सेवाओं के पहुंच को समय से बढ़ाने की है वहीं सरकार भ्रष्टाचार के खिलाफ जीरो टॉलरेंस पॉलिसी बढ़ाना चाहती है । इसमें ईमानदारी से काम करने वाले कर्मचारियों के लिए सही माहौल बनेगा । उन्होंने कहा, सरकार वर्कफोर्स की परफॉमेंस का समय-समय पर मूल्यांकन करती रहती है । इससे ईमानदारी से काम करने वाले कर्मचारियों का मनोबल बढ़ता है । केंद्र सरकार ने १२९ नॉन परफॉर्मिग  कर्मचारियों को अनिवार्य रिटायरमेंट पिछले एक साल में दिया है । इसमें कुछ आईएएस और आईपीएस भी शामिल थे । कानून के मुताबिक, एक सरकारी कर्मचारी का प्रदर्शन दो बार रिव्यू होता है । एक बार जब उसे नौकरी के १५ साल हो जाए और दूसरा २५ साल की सर्विस के बाद । हालिया आंकड़ों के मुताबिक देश में कुल ४८.८५ लाख केंद्रीय कर्मचारी है ।

Related posts

गिरिराज सिंह द्वारा दिए बयान के बाद बिहार की सियासत गरमा गई

aapnugujarat

મુંબઈમાં જળપ્રલય, તોફાની પવન સાથે અતિભારે વરસાદ

editor

શત્રુઘ્ન વિરુદ્ધ ‘કોંગ્રેસીઓ’નું પ્રદર્શનઃ લાલુના ‘એજન્ટ’ ગણાવ્યા

aapnugujarat

Leave a Comment

UA-96247877-1