Aapnu Gujarat
બિઝનેસ

युवाओं को ऊबर की तरह इस्तेमाल कर रहीं आईटी फर्मे

पुणे की परसिस्टेंट सिस्टम्स ने भर्तियो की पुरानी प्रथा को तोडते हुए अपनी टीम में कुछ फ्रीलांसरो और कसल्टंट्‌स को शामिल कर लिया जिन्होंने कम वक्त के एक प्रोजेक्ट पर काम किया । जोब की दुनिया में यह थोडा नया आइडिया है जो ग्लौबल टेक्नोलजी सर्विस इंडस्ट्री में धीरे धीरे जोर पकडता जा रहा है । इसे गिग इकोनमी या वर्कफोर्स का उबराइजेशन कहा जा रहा है, जहां लोग डिमांड सप्लाइ मोडल पर काम करते है । इससे डिमांड और इंट्रेस्ट एरियाज के लिहाज से विभिन्न प्रोजेक्ट्‌स के लिए एक से दुसरी कंपनी का भ्रमण करते रहते है । परसिस्टेंट सिस्टम्स के चीफ पीपल ओफिसर समीर बेंद्रे ने कहा, हालांकि यह सर्विसेज कंपनियो में बडे पैमाने पर अब तक नहीं दिखा है, लेकिन इसकी शरुआत हो चुकी है । उन्होंने कहा, कुछ पोकेट्‌स में हम इसका प्रयोग कर रहे है.. हमें लगता है कि कुछ क्षेत्रो में इसके इस्तेमाल के अच्छे अवसर है । मसलन, अगर महिलाए मातृत्व अवकाश के बाद कम पर लौट रही हो तो । इन्फोसिस और विप्रो समेत दुसरी भारतीय आईटी कंपनियां उबराइज्ड वर्कफोर्स के आइडिया पर विचार कर रही है । इस ट्रेंड के जोर पकडने के पीछे मार्केट में उठापटक और इंडियन आईटी सर्विसेज के सबसे बडे मार्केट अमेरिका में बदली राजनीतिक स्थिति में कही बडी वजह युवाओं की प्राथमिकताओं का बदलना है । इन्फोसिस में एचआर हेड रिचर्ड लोबो ने कहा, वर्कफोर्स में मिलेनियल्स के बढते दबदबे से वो सारी धारणाए टुट रही है जो किसी एंप्लोयी को कंपनी से जुडा और प्रेरित रखती थी । उन्होंने कहा, हम ज्यादा से ज्यादा मिलेजुले वर्कफोर्स के साथ डील कर रहे है जहां फुल टाइम और पार्ट टाइम एप्लोयी एक ही वजह पर काम करते है, लेकिन दोनो की जरुरते बिल्कुल भिन्न है । लोबो कहते है कि फुल टाइम जोब नहीं करने की चाहत रखनेवालो की तादाद बढती जा रही है । उन्होंने कहा, जिस तरह लोगो को ओन डिमांड कारों से आवाजाही की आदत हो गई है, उसी तरह एप्लोयर्स भी उन खास कामों के लिए लोगो की ओन डिमांड हायरिंग कर लेंगे जिन्हें रेग्युलर स्टाफ नही निपटा सकते ।

Related posts

૧૦ વધુ સરકારી કંપનીઓનું કરવામાં આવશે ખાનગીકરણ

editor

GoAir’s digital marketing campaign wins global acclaim

aapnugujarat

રિટેલ ફુગાવો ફેબ્રુઆરીમાં ૪ મહિનાની ઉંચી સપાટીએ

aapnugujarat

Leave a Comment

URL