Aapnu Gujarat
બિઝનેસ

इस वित्त वर्ष में पावर सरप्लस बन सकता हैं भारत

भारत इस वित्त वर्ष में ही पावर सरप्लस देश बन सकता है । अप्रैल की बात करे तो देश में उर्जा की कमी और पीक घंटो में बिजली घाटा १ प्रतिशत से भी कम है । कई राज्यो में अप्रैल में बीजली घाटा जीरो रहा । यह जानकारी केंद्रीय विद्युत प्राधिकरण ने जारी की है । प्राधिकरण के डेटा के मुताबिक, अप्रैल महीने में उर्जा की कमी ०.५ प्रतिशत रही । पिछले साल अप्रैल में यह १.४ प्रतिशत थी । सेंट्रल इलेक्ट्रिसीटी अथोरिटी के मुताबिक, अप्रैल में उर्जा की कमी देश के पश्विमी भागो में ०.१ प्रतिशत थी । वहीं उत्तर पूर्वी भागो में यह कमी ४.५ प्रतिशत थी और उत्तरी भागो में यह १.५ प्रतिशत रही । उर्जा मंत्रालय से जारी डेटा से पत्ता चला कि कई राज्यो में उर्जा की कमी न के बराबर है और पीक घंटो में उर्जा घाटा भी नहीं है । ये राज्य है । छत्तीसगढ, गुजरात, हरियाणा, कर्नाटक मध्य प्रदेश ओडिशा, पंजाब, सिक्किम, त्रिपुरा और पश्विम बंगाल । केंद्र पर शासन कर रही बीजेपी अब युपी में भी सरकार बना चुकी है । युपी में उर्जा की कमी अप्रैल में १ प्रतिशत रही । अप्रैल २०१६ में यह १४ प्रतिशत थी । केंद्रीय विद्युत प्रधिकरण की लोड जेनरेशन बैलेंसिग रिपोर्ट के मुताबिक भारत २०१७-१८ में पावर सरप्लस देश बन जाएगा ।

Related posts

भारतीय अर्थव्यवस्था में तेजी से विकास करने की क्षमता : दुनियाबिजनेस बिल गेट्स

aapnugujarat

જીએસટી અમલી થયા બાદ ઈન્સ્યોરન્સ પ્રિમિયમ મોંઘા

aapnugujarat

उद्योगों के लिए एकल खिड़की व्यवस्था जल्द : गोयल

editor

Leave a Comment

URL