Aapnu Gujarat
રાષ્ટ્રીય

भारत में आतंक फैलाने के लिए मजारों पर चंदे जुटा रहा पाक

पाकिस्तान भारत में आतंक फैलाने की नापाक कोशिश से बाज नहीं आ रहा हैं । अब उसने आतंकियों को फंडिंग करने के लिए नया तरीका निकाला हैं । राजस्थान पुलिस की खुफिया एजेंसियो के मुताबिक पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई के हैडलर्स दरगाहो से प्राप्त चंदे से आतंकियों को फंडिंग कर रहे हैं । जो सीमा से सटे राजस्थान के गांवों में आतंकी गतिविधियों को अंजाम दे रहे हैं । राजस्थान के मजारों की जिन पेटियों में जायरीन दान देते हैं । उनको आईएसआई हैडलर्स ने लगाया है । इस दान के पैसे का इस्तेमाल आईएसआई आतंकियों को फंडिग करने के लिए करती है । पाकिस्तानी खुफिया एंजेंसी के हैडलर्स दरगाहों के बाहर दान पेटी रखवा रहे हैं । जिन पर जायरीन दान करते हैं । पाकिस्तान इस पैसे का इस्तमाल भारत के सीमावर्ती गांवों में आतंक फैलाने लिए करता हैं । दीना खान को पिछले सप्ताह बाड़मेर जिले के एक दूरदराज के गांव से गिरफ्तार किया गया था । उसने यह भी खुलासा किया कि वह बाड़मेर जिले के एक गांव की छोटी मजार का इन चार्ज था । पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि दीना खान ने मजार में दान से ३.५ लाख रुपये जुटाए थे । जिनकों आईएसआई के जासूस सतराम महेश्वरी, उसके भतीजे विनोद माहेश्वरी और हाजी खान को दिए । उन्होंने बताया कि दीना खान पाकिस्तान में बैठे आईएसआई हैंडलर्स के लगातार संपर्क में था और उनसे फोन पर बात करता था । वह इन हैंडलर्स के इशारे पर दान में मिले पैसे का इस्तेमाल करता था । हाल ही में हाजी खान को भी गोपनीय जानकारी लीक कनरे के आरोप मंे गिरफ्तार किया गया था । पुलिस को आंशका है कि आईएसआई ने अपनी जासूसी के लिए फंड जुटाने के मकसद से सीमावर्ती इलाकों के कई मजारो में दान पेटियां रखी होगी । पुलिस अधिकारी ने बताया कि अगर हवाला नेटवर्क के जरिए पैसा बांटा जाता हैं तो यह पकड़ में आ जाता हैं । ऐसे में दान पेटी से जासूसों को पैसे बांटना आसान हैं ।

Related posts

સિલ્ચર એરપોર્ટ પર ટીએમસીનાં આઠ સભ્યોની અટકાયત

aapnugujarat

ભાડુઆત પોતાને મકાન માલિક ન સમજે : સુપ્રિમ કોર્ટ

editor

પાકિસ્તાન કરતા ભારતની હવાઇ તાકાત અનેક ગણી

aapnugujarat

Leave a Comment

URL