Aapnu Gujarat
તાજા સમાચાર રાષ્ટ્રીય

संचार क्षेत्र में क्रांति लाएंगे आईएसआरओ के दोनो सैटेलाइट

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन यानी आईएसआरओ अपने आने वाले सैटेलाइटो से संचार क्षेत्र में क्रांति करने की तैयारी में है । आईएसआरओ के जीएसएटी-१९, जीएसएटी-११ सैटेलाइट्‌स डिजिटल इंडिया के लिहाज से गेमचेंजर साबित हो सकते है, जो इंटरनेट सेवाओ और स्ट्रीमिंग के अनुभव को पुरी तरह बदल लेगे । आईएसआरओ अपने रोकेट प्रक्षेपण केंद्र श्रीहरिकोटा में एक महा प्रयोग कर रहा है । इसके तहत एक महा रोकेट को छोडने की तैयारी हो रही है जो एक नई ही श्रेणी के कोम्युनिकेशन सैटेलइट को अंतरिक्ष में ले जाएंगा । जीएसएटी-१९ की डिजाइन अमदावाद स्थित स्पेस अप्लिकेश सेंटर में तैयार किया जा रहा है । स्पेस अप्लिकेश सेंटर डायरेक्टर तपन मिश्रा इसे भारत के लिए गेमचेंजर सैटेलाइट बता रहे है । अगर यह कामयाब हुआ तो एक अकेला जीएसएटी-१९ सैटेलाइट पुराने ६-७ सैटेलाइटो के समुह के बराबर होगा । अभी अंतरिक्ष में भारत के ४१ सैटेलाइंट्‌स है जिनमें से १३ कोम्युनिकेशन सैटेलाइट्‌स है । जीएसएटी-१९ सैटेलाइट की वजह ३१३६ किलोग्राम है जो एक हाथी के वजह के बराबर है । यह भारत की तरफ लोन्च किया जाने वाले सबसे भारी सैटेलाइट होगा । खास बात यह है कि जीएसएटी-१९ सैटेलाइट में पहली बार कोई ट्रांसपोडर नही होगा । यानी पुरी तरह से नई तकनीक का इस्तेमाल होगा । इससे इंटरनेट क्षमता कम से कम ६ से ७ गुना बढ जाएगी । इतना नही, आईएसआरओ के वैज्ञानिक का कहना है कि जीएसएटी-१९ तो सिर्फ ट्रेलर होगा, असली तो जीएसएटी-११ सैटेलाइट होगा । उसे जीएसएटी-१९ के बाद छोडा जाएगा । इसका वजह ५.८ टन होगा, जिसे दक्षिण अमेरिका के कोउरो से छोडने की योजना है । इन सैटेलाइटस के बाद इंटरनेट स्पीड कई गुना ज्यादा बढ जाएगी ।

Related posts

મોદી ભારતીય ઈતિહાસના સૌથી મોટા લોકતાંત્રિક નેતા છે : Amit Shah

editor

ત્રણ થી પાંચ સરકારી બેંક હોવી જોઈએ : અરવિંદ સુબ્રમણ્યન

aapnugujarat

क्या मोदी पाकिस्तान के एंबेसडर हैं ? : ममता

aapnugujarat

Leave a Comment

URL