Aapnu Gujarat
રાષ્ટ્રીય

पाक से निपट रही भारतीय सेना की अब नजर चीन पर

पाकिस्तान से सटी ७७८ किमी लंबी लाईन ऑफ कन्ट्रोल पर भारतीय सेना इस वक्त अपना पूरा जोर लगा रही है । पडोसी मुल्क की ओर से पैदा की जा रहीं मुश्किलों से निपटने में सेना पुरी ताकात के साथ जुटी हैं । हालांकि, उसकी नजरें चीन पर भी हैं । चीन से सटी लाईन ऑफ एक्चुअल कन्ट्रोल (एलएसी) पर भी अपनी पैठ मजबूत कर रही है । लगभग १३ लाख संख्याबल वाली भारतीय सेना ने उत्तरी सीमाओं के पास फंड की कमी के बावजूद अपनी सक्रियता बढा दी है । चीन की सीमाओं से सटे इस क्षेत्र में सेना ने माउंटेन स्ट्राइक कॉर्प्स के दूसरे डिविजन को सक्रिय करने की प्रक्रिया शुरु कर दी है । वहीं लद्दाख में इस साल के अंत तक युद्ध, अभ्यास की भी योजना हैं । सेना से जुडे उच्चस्तरीय सूत्रों ने हमारे सहयोगी अखबार को बताया कि, ७२ इनफेन्ट्री डिविजन जिसका हेडक्वॉर्टर पठानकोट में हैं, को अलगे ३ सालों में पूरी तरह से ऑपरेशनल बनाया जाएगा । सेना के सूत्र ने कहा कि, फिलहाल शुरुआत में इसमें १ ही ब्रिगेड हैं, लेकिन तीन साल में जब ७२ इनफेन्ट्री डिविजन पूरी तरह से ऑपरेशनल हो जाएगा तो इसमें ३ ब्रिगेड होंगे । अगले ३ सालों में ऐसा होने की संभावना हैं । १७ माउंटेन स्ट्राइक कॉर्प्स का विस्तार सेना ने जनवरी २०१४ में हु शुरु किया है । चीन ने खिलाफ यह पहली बार किया जा रहा है । इससे पहले तक, सेना के तीन स्ट्राइक कॉर्प्स का इस्तेमाल मुख्य तौर पर पाकिस्तान के खिलाफ ही किया जाता रहा है । आर्मी चीफ बिपिन रावत ने पूर्व में हमारे यगयोगी अखबार को इस बारे में जानकारी दी थी । रावत ने बताया था कि १७ कॉर्प्स में दो उच्च स्तरीय इन्फेन्ट्री डिविजन होंगे । साथ ही तोपखाने, बख्तरबंद, एयर डिफेंस, इंजिनियर ब्रिगेड से लैस इसका विस्तार लद्दाख से अरुणाचल प्रदेश तक किया जाएगा । आर्मी चीफ के अनुसार, इसके लिए ९०२७४ सैनिकों को तैात किया जाएगा । २०२१ तक इस प्रक्रिया को पूरा कर लिया जाएगा, जिसमें ६४६७८ करोड रुपए की लागत आएगी ।

Related posts

દલિત અને મહિલાઓ ઉપર અત્યાચાર મુદ્દે મોદી મૌન છે : રાહુલ ગાંધી

aapnugujarat

ભારતીય અણું વૈજ્ઞાનિક હોમી ભાભાના પ્લેન ક્રેસ પાછળ સીઆઇએનો હાથ હોવાની શંકા

aapnugujarat

અંકુશરેખા પાર કરવા માટે ૧૬૦ ત્રાસવાદી તૈયાર

aapnugujarat

Leave a Comment

URL