Aapnu Gujarat
તાજા સમાચારરાષ્ટ્રીય

रुस-चीन साथ मिलकर पैसेंजर एयरक्राफ्ट बनाएंगे

पैसेंजर एयरक्राफ्ट के क्षेत्र में एकक्षत्र राज करने वाली कंपनियों से मुकाबला करने के लिए रुस और चीन ने हाथ मिलाया हैं । दोनों देश मिलकर अब भारी यात्री क्षमता वाले एयरक्राफ्ट विकसित करेंगे । चीन की सरकारी स्वामीत्व वाली कंपनी कमर्शल एयरक्राफ्ट कोर्पोरेशन ऑफ चाइना लिमिटेड और रुस के यूनाइटेड एयरक्राफ्ट कोर्पोरेशन (यूएसी) का लक्ष्य २०२५-२०२७ तक ग्राहकों को पहला एयरक्राफ्ट डिलिवर करने का हैं । यूएसी के चेयरमैन यूपी स्लायूजा ने सोमवार को शंघाई में यह जानकारी दी । ब्लूमबर्ग के मुताबिक उन्होंने बताया कि इस नए विमान के लिए करोड़ो अमेरिकी डोलर के निवेश की आवश्यकता होगी । दोनों कंपनियां मिलकर एक २५० सीटों वाला विमान बनाएंगी जो कि १२००० किलोमीटर और सिंगापुर से लंदन तक की दूरी से अधिक उड़ान भर ले । इस माह की शुरुआत में चीन में पहले मोर्डन पैसेंजर जेट कोमैट सी ९१९ का शंघाई में टेस्ट किया था । चीन १०० से अधिस सीटों वाले विमानों के क्षेत्र में एयरबस और बोइंग का एकाधिकार खत्म करने के प्रयास में है । राष्ट्रपति शी जिनपिंग द्वारा जारी की गई मेड इन चाइना २०२५ नीति में भी एयरोस्पेश सेक्टर को चिन्हित किया गया है जिससे अर्थव्यवस्था को आगे बढ़ाने में मदद मिले । कोमैक कंपनी के चेयरमैन ने बताया कि इस जेट के लिए रिसर्च और डिवेलपमेन्ट का काम मॉस्को में किया जाएगा । और असेंबल शंघाई में । कोमैक में कार्यरत एक अन्य कर्मचारी ने कहा कि इस प्रोजेक्ट के लिए इंजन सप्लायर की जरुरत होगी जिसके लिए इस साल के अंत तक टेंडर जारी कर दिए जाएगे वहीं अगले सात तक उपकरणों के टेंडर जारी होंगे ।

Related posts

હવે મફ્ત ડેટાની ભેટ મોદી સરકાર આપે તેવી શક્યતા

aapnugujarat

કેન્દ્રએ ડીએપી પર વધારી ૧૪૦% સબસિડી

editor

२०१४ दिल्ली रेप केस में उबर ने टोप एग्जिक्युटिव को हटाया

aapnugujarat

Leave a Comment

UA-96247877-1