Aapnu Gujarat
તાજા સમાચાર રાષ્ટ્રીય

हरिद्वार में गंगा का पानी हर पैमाने पर असुरक्षित

हरिद्वार के गंगा में डुबकी लगाने वालों की कमी नहीं है । आए दिन यहां श्रद्धालुओं की भीड लगी रहती है । पौराणिक मान्यताओं के अनुसार लोगों का यह मानना है कि गंगा में डुबकी लगाने से सारे पाप धुल जाते हैं । लेकिन, अब यहां गंगा का पानी इतना गंदा हो चुका है कि इसे पीना तो दूर, अब यह नहाने के लायक भी नहीं रहा । केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने एक आरटीआई के जवाब में बताया है कि हरिद्वार में गंगा नदी का पानी तकरीबन हर पैमाने पर असुरक्षित है । मीडिया रिपोर्ट्‌स के अनुसार उत्तराखंड में गंगोत्री से लेकर हरिद्वार जिले तक ११ लोकेशन्स से पानी की गुणवत्ता की जांच के लिए सैंपल लिए गए थे । ये ११ लोकेशन्स २९४ किलोमीटर के इलाके में फैैली है । बोर्ड के वरिष्ठ वैज्ञानिक आरएम भारद्वाज ने बताया इसने लंबे दायरे में गंगा के पानी की गुणवत्ता जांच के लिए ४ प्रमुख सूचक रहे, जिनमें तापमान, पानी में धुली ऑक्सिजन, बायलॉजिकल ऑक्सिजन डिमांड और कॉलिफॉर्म (बैक्टीरिया) शामिल है । हरिद्वार के पास के इलाकों के गंगा के पानी में बायलॉजिकल ऑक्सिजन डिमांड, कॉलिफॉर्म और अन्य जहरीले तत्व पाए गए । केन्द्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के मानकों के मुताबिक, नहाने के एक लीटर पानी में बायलॉजिकल ऑक्सिजन डिमांड का स्तर ३ मिलीग्राम से कम होना चाहिए, जबकि यहां के पानी में यह स्तर ६.४एमजी से ज्यादा पाया गया । इसके अलावा हर की पौडी के प्रमुख घाटों समेत कई जगहों के पानी में कॉलिफॉर्म भी काफी ज्यादा पाया गया । प्रति १०० एमएल पानी में कॉलिफॉर्म की मात्रा जहां ९० एमपीएन (मोस्ट प्रॉबेबल नंबर) होना चाहिए, वह १६००एमपीएन तक पाई गई ।

Related posts

દેશને શટકાવવાની વાત હશે, તો દરેક અવાજ જેલની પાછળ હશે : અમિત શાહ

aapnugujarat

ઉત્તરપ્રદેશમાં ૭૪ સીટો પર જીત મેળવીશું : જે.પી.નડ્ડા

aapnugujarat

चीन को भारतीय सेना का दो टूक जवाब: हैं तैयार हम…!

editor

Leave a Comment

URL