Aapnu Gujarat
તાજા સમાચાર રાષ્ટ્રીય

राम मंदिर आस्था का विषय तो तीन तलाक क्यों नहीः सिब्बल

तीन तलाक पर सुप्रीम कोर्ट में चल रही सुनवाई के दौरान मंगलवार को ओल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लो बोर्ड के वकील कपिल सिब्बल ने अदालत के सामने कई दिलचस्प दलीलें पेश की । सिब्बल ने तीन तलाक को मुस्लिमो की आस्था का मुद्दा बताते हुए उसकी तुलना भगवान राम के अयोध्या में जन्म से कर डाली । उन्होंने कहा कि अगर भगवान राम के अयोध्या में जन्म लेने को लेकर हिंदुओ की आस्था पर सवाल नहीं उठाए जा सकते तो तीन तलाक पर सवाल क्यो उन्होंने तीन तलाक अमान्य होने की स्थिति में नया कानुन लाने के केंद्र के बयान पर भी सवाल उठाए । कोर्ट में एआईएमपीएलबी का पक्ष रख रहे सिब्बल ने कहा,ृ मुसलामान पिछले १४०० सालो से तीन तलाक की प्रथा का पालन कर रहे है और यह विश्वास का मामला है । आप कैसे कह सकते है कि यह असंवैद्यानिक है । आस्था का सवाल उठाते हुए सिब्बल ने आगे कहा, अगर हिंदु मानते है कि भगवान राम का जन्म अयोध्या में हुआ था तो इस आस्था को संवैधानिक मान्यता के आधार पर सवालो के घेरे में नही लाया जा सकता । सिब्बल ने कहा कि कोर्ट को किसी की आस्था और विश्वास को न तो तय करना चाहिए और न ही उसमें दखल देना चाहिए । इस पर सवालो के घेरे में नही लाया जा सकता । सिब्बल ने कहा कि कोर्ट को किसी की आस्था और विश्वास को न तो तय करना चाहिए और न ही उसमें दखल देना चाहिए । इस पर जस्टिस आरएफ नरीमन ने सिब्बल ने पुछा, क्या आप यह कहना चाहते है कि हमें इस मामले पर सुनवाई नहीं करनी चाहिए । जवाब में सिब्बल ने कहा, हां, आपको नही करनी चाहिए । अपनी दलीलो को आगे बढाते हुए सिब्बल ने कहा, अगर निकाह और तलाक दोनो कोन्ट्रैक्ट है, तो दुसरो को इससे समस्या क्यो होनी चाहिए । खास तौर पर तब, जब इसका पालन १४०० सालो से किया जा रहा है ।

Related posts

Akhilesh Yadav targets to Oppn Leaders, said- ED, CBI and fear … It’s new democracy of new India

aapnugujarat

भारत में इस्पात खपत नई ऊंचाई पर पहुंचने की राह पर : प्रधान

aapnugujarat

દિલ્હીમાં ‘ગળા ઘોંટું’ લૂંટારુ ગેંગનો આતંક

aapnugujarat

Leave a Comment

URL