Aapnu Gujarat
તાજા સમાચાર બિઝનેસ

डॉलर के सामने रुपये की मजबूती से बढ़ी आईटी सेक्टर की मुश्किलें

करीब ६ महीने पहले ही डॉलर के मुकाबले रुपये की कमजोर विनिमय दर के चलते नीति-निर्माता और कंपनियां परेशान थे। अब रुपये में डॉलर के मुकाबले तेजी का दौर हैं, लेकिन कंपनियों के सामने नई मुसीबतें खड़ी हो गई हैं । इस साल की शुरुआत से अब तक डोलर के मुकाबले रुपये की दर में ५.९ पर्सेट तक का उछाल आया हैं । इससे महंगाई पर जरुरी लगाम कसी है, लेकिन भारत के निर्यातकों के लिए रुपये की ज्यादा मजबूती चिंता का सबब हैं । अमेरिका में वीजा नियमों की सख्ती जैसी समस्याओं से जूझ रहे आईटी सेक्टर और दवा उद्योग के लिए यह खासतौर पर चिंता का सबब हैं । अमेरिका के फूड एंड ड्रग्स एडमिनिस्ट्रेशन की ओर से कड़े निरीक्षण ने भी दवा उद्योग के लिए मुश्किलें खड़ी की हैं । देश की सबसे बड़ी आईटी कंपनी टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज को भी नुकसान उठाना पड़ा हैं । ब्लूमबर्ग के मुताबिक एक सीनियर अधिकारी ने भी कहा कि रुपये का लगातार बढ़ता स्तर चिंता की बात हैं । हालांकि आरबीआई की ओर से इसमें दखल दिए जाने के संकेत नहीं दिए गए हैं । टाटा इन्फोसिस एवं विप्रो जैसी दिग्गज आईटी कंपनियों की ९० फीसदी से ज्यादा कमाई एक्सपोर्ट के जरिए होती है । वहीं, सन फार्मास्युटिकल्स और ल्यूपिन जैसी ड्रगमेकर कंपनियों काी ७० फीसदी कमाई विदेशों से होती हैं । ल्यूपिन को छोड़कर इन पांचों कंपनियों के शेयरों में सोमवार को गिरावट का रुख दिखाई दिया । मुंबई स्थित रिलायंस सिक्योरिटीज में रिसर्च हेड राकेश तारवे ने कहा कि रुपये का तेजी से बढ़ता स्तर चिंता की बात हैं । उन्होने कहा कि हम आईटी सेक्टर को लेकर निवेशकों को सावधानी बरतने की सलाह दे रहे हैं । वैश्विक परिस्थितियों और करंसी में उछाल के चलते सावधान रहना जरुरी हैं ।

Related posts

જો આતંકીઓ આવી હાલત કરે છે તો પાક. આર્મી શું ન કરી શકે : સપા સાંસદ

aapnugujarat

अब तीन तलाक बिल को राष्ट्रपति कोविंद ने दी मंजूरी

aapnugujarat

સુકન્યા સમૃદ્ધિમાં વાર્ષિક ૨૫૦ રૂપિયા પણ જમા થશે

aapnugujarat

Leave a Comment

URL